किसी की मानवीयता जाति की सरहद पर ख़त्म हो जाती है , किसी की धर्म की सीमा पर
blog-image.jpeg